मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

अगस्त 20, 2010

मुम्बई के धोबी जाएं तेल लेने …

आईये साहबान विकास के नाम काँक्रिट के जंगलों में करें एक और नायाब काम । जी हाँ , राज ठाकरे की मुम्बई में अब सामत आई है धोबियों की । मुम्बई के धोबी घाट पर अब नजर है वहां के बिल्डरों की ,इन्होने बी एम सी को आगे किया है । बी एम सी का कहना है - जिस जगह पर धोबी कपडे धोते हैं - सुखाते हैं ,वह जगह बी एम सी की है और अब उसे वापस चाहिए । वहां वह विकास की नई गंगा बहाएगी । सदियों से यहां काम करते आ रहे धोबी जाएं तेल लेने । कुछ को कपडा सुखाने की मशीनें दे दी जायेंगी ,उनसे उनकी जगह छीनने के बाद । याने विरासत का मिटना तय है । बिल्डर्स ने नेताओंको अपना सपना मनी-मनी जो दिखा दिया है । अब जनता को दिखाने - भरमाने के लिए ये लालची बंदर आपस में दिखावटी-राजनीतिक उठा पटक का खेल करके दिखायेंगे , मीडिया अपनी प्लांड भूमिका का निर्वाह करता दिखेगा और इन सब के बाद पूर्व निर्धारित बिल्डर्स को उनकी चिन्हित जमीनें दे दी जायेंगी ।  इस विकास की कीमत चुकायेंगे दस हजार धोबी परिवार , जिनकी पीढ़ियों ने मुंम्बई के लोगों के कपडों मे चमक - दमक लाने का काम पूरी निष्ठा से किया था ,बगैर यह सोचे कि ऐसा भी एक दिन आयेगा। हद कर दी है लालच ने  , अमानवीय - असंवेदनशील शासन-प्रशासन ने । ऐसे कृत्यों को समय रहते  रोका जाना चाहिए , ह्तोत्साहित किया जाना चाहिए ।

1 टिप्पणी:

  1. ठीकरा जिसके सिर फूटे, कभी जल्‍दी कभी देर से यह तो होता आ रहा है, होता रहेगा, मूलतः यह द्वंद प्रक़ति और सभ्‍यता फिर सभ्‍यता और उन्‍नत सभ्‍यता का है. बहरहाल, आपके सोच की संवेदनाशीलता कम महत्‍वपूर्ण नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...