मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

सितंबर 02, 2010

पुलिस का यह काम …आखिर उद्देश्य क्या है ?

पुलिस ने हमारे शहर में यातायात सुधार का जिम्मा उठाया है । यह प्रयास सुधार की दिशा में कम, रकम वसूली की दिशा में कहीं ज्यादा कारगर साबित होता दिख रहा है । समझने के रेल्वे स्टेशन के बाहर का हाल कहना ही बहुत है । यहाँ रेल्वे प्रबंधन ने बाकयदा पार्किंग बनाई है । चार पहिया वाहन की ही बात करें ,तो जानिये कि यहाँ हर रोज एक हजार से भी ज्यादा कारें आतीं हैं , जिनमें से लगभग आधी गाड़ियाँ निर्धारित पार्किंग में खड़ी होती हैं ,जिनका 10 रुपये किराया वसूल किया जाता है ,और इसकी रसीद के पीछे छपी तमाम लाईनों में एक लाईन यह भी लिखी होती है कि यदि निर्धारित स्थल पर गाड़ी पार्क नहीं की गई तो रेल्वे प्रशासन 100 रुपये तक का जुर्माना वसूल सकता है । लेकिन यहाँ जिला पुलिस के अधिकारी-कर्मचारी जिनकी ड्युटी प्री पेड ऑटो के लिए बूथ पर लगी होती है ,वे लोग 6 - 7 बिहारी - झारखण्डी लड्कों को अवैध रूप से यहाँ तैनात रखते हैं और इनकी मदद से एक कार से 500 रुपये से 1000 रूपये तक की वसूली करते हैं । क्या यही है पुलिस का मूल काम ? क्या रेल्वे ने जिला पुलिस को यहाँ गुण्डागर्दी के लिए हायर कर रखा है ?  या फ़िर इसमें भी सबका हिस्सा है ?
शहर में आम आदमी जगह - जगह तंग है । कहीं भी यह स्पष्ट नहीं है कि वाहनों की पार्किंग कहाँ-कहाँ करना है और कहाँ-कहाँ नहीं । मामला स्टेशन का हो या फ़िर शहर का बगल में खड़ी पुलिस आपको वाहन खड़ा करता देख कुछ भी बोलने-बताने सामने नहीं आयेगी , जैसे ही आप वाहन खड़ा करेंगे ,वह एक चालान की पर्ची काट कर आपसे वसूली का जबरिया प्रयास करते दिखेंगे । सवाल है यह पुलिस जनता के भले के लिये है या जनता अवैध-बलात वसूली के लिए है ? है किसी अधिकारी के पास जवाब ?  क्या यही तरीका है सही पुलिसिंग का ? जब राजधानी में प्रदेश शासन की आखों में इस तरह के काम जायज ठहरा कर ये नौकरशाह कर गुजर रहे हैं तो दूर दराज में कैसा होगा इनका हाल ??? क्या ऐसा ही होता है संवेदनशील प्रशासन ??? क्या नेता और अधिकारियों की जेबें भर कर होगा पंडित दीनदयाल जी उपाध्याय का अन्त्योदय ? क्या ऐसे ही हो इस आशा के साथ जनता ने दोबारा इस पार्टी पर अपना विश्वास व्यक्त किया था ? इन खबरों को शहर के लीडिंग अखबार भी लगातार प्रकाशित करते आ रहे है लेकिन शासन-प्रशासन अब मानो निर्लज्ज हो चुके हैं ,पैसा कमाने के आगे वह कुछ भी सुनना नहीं चाहते । मनमानी ही नहीं अंधेर की परकाष्ठा है यहां चहुँ ओर । आप कुछ नहीं कर सकते ।  

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत गुंडागर्दी मच रही है स्टेशन पर
    जबरदस्ती वसूली और लूट खसोट।

    अच्छी पोस्ट-आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद ललितजी । लोग आखिर इसका विरोध क्यों नहीं करते ?

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...