मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

सितंबर 25, 2010

कन्हैयालाल नंदन का निधन


हिंदी के जाने माने साहित्यकार और पत्रकार कन्हैयालाल नंदन का शनिवार तड़के यहां  नई दिल्ली में निधन हो गया। वह 77 वर्ष के थे।
नंदन के परिवारिक सदस्यों ने बताया कि उन्हें बुधवार शाम ब्लडप्रेशर कम होने और सांस लेने में तकलीफ होने के बाद रॉकलैंड अस्पताल में भर्ती कराया गया था।  जहाँ शनिवार तड़के तीन बजकर 10 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली। वह काफी समय से डायलिसिस पर थे। उनके परिवार में पत्नी और दो पुत्रियां हैं।
नंदन का जन्म उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में एक जुलाई 1933 को हुआ था। डीएवी कानपुर से ग्रैजुएट करने के बाद उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रैजुएट किया और भावनगर यूनिवर्सिटी से पीएचडी की। पत्रकारिता में आने से पहले नंदन ने कुछ समय तक मुम्बई के कॉलेजों में अध्यापन कार्य किया। वह वर्ष 1961 से 1972 तक धर्मयुग में सहायक संपादक रहे। इसके बाद उन्होंने टाइम्स ऑफ इडिया की पत्रिकाओं पराग, सारिका और दिनमान में संपादक का कार्यभार संभाला। वह नवभारत टाइम्स में फीचर संपादक भी रहे। नंदन को पद्मश्री, भारतेंदु पुरस्कार, अज्ञेय पुरस्कार और नेहरू फेलोशिप सहित कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।
उन्होंने विभिन्न विधाओं में तीन दर्जन से अधिक पुस्तकें लिखीं। वह मंचीय कवि और गीतकार के रूप में मशहूर रहे। उनकी प्रमुख कृतियां लुकुआ का शाहनामा, घाट-घाट का पानी, आग के रंग आदि हैं।   अंतिम संस्कार रविवार(आज) को लोदी श्मशान घाट पर किया जाएगा। आईये उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करें
                                                                                                                                                                 

7 टिप्‍पणियां:

  1. साहित्यशिल्पी - रचनाधर्मी रहे श्री कन्हैयालाल जी नंदन अमर रहें । श्रद्धासुमन अर्पण ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नन्दन जी आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना एवं श्रृद्धांजलि!

    सादर

    समीर लाल

    उत्तर देंहटाएं
  3. श्रद्धांजली.. रचनाधर्मी श्री कन्‍हैयालाल नंदन जी अमर रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बचपन बीता है पराग और नदंन के साथ....बहुत दुखी है आज मन...सम्पादकीय पढ़्ने की आदत आपकी कलम के वजह से ही पड़ी....ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे....

    उत्तर देंहटाएं
  5. नंदन जी की नश्वर काया भले ही परमात्मा में बिलीन हो गयी हो
    परन्तु उनकी आत्मा तो अनगिनित शब्दों के रूप में हमारे बीच
    बिद्यमान हैं जो इतिहास के पन्नो में सदा अमर रहकर रोशन
    करती रहेगी नव चिरागों को |

    उत्तर देंहटाएं
  6. कन्हैयालाल नंदन जी के निधन का ख़बर सुनकर बहुत दुःख हुआ! उनको मेरा शत शत नमन और श्रधांजलि !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...