मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

जून 29, 2010

ये अखबार वाले

राजधानी बनने के बाद से रायपुर में मानो अखबारों की बाढ़ सी आ गई है । दूर देश बैठे लोग भी मानो सूंघ-सूंघ कर चले आ रहे हैं यहां । नित्य  नये अखबार खुलने लगे हैं यहां ।  एक अखबार और आया है शहर में । स्वागत है । अखबार शुरु होने में अभी समय है । यहां हमें किसी अखबार से कुछ लेना - देना नहीं है  , लेकिन बिक्री के उसके तौर-तरीके ने आज हमें इस विषय  पर आपके साथ जरूर थोड़ा बात करेंगे को मजबूर किया है । तरीका कोई ज्यादा नया भी नहीं है , हाल के ही कुछ वर्षों में अख्तियार किया गया है ।सभी नें किया है । अब चलन सा बन गया है ।
हमको लगता है अब शायद ही कोई अखबार बिना किसी सहारे के बिक पायेगा ,  तभी शायद  इसे बेचने  निकलने वाले  अखबार के साथ स्टील या कांच  के बर्तन , चटाई या फ़िर पूजा का आसन  या फ़िर प्लास्टिक की बाल्टी , सोडा , सर्फ़ साबुन जैसे तरह-तरह के अन्य होम एप्लायसेंस  के सहारे अखबार का ग्राहक बनाने गली-गली घूमते दिख जाया करते हैं । सवाल यह है कि ऐसा क्यों होने लगा है  ?   अखबार अपने नाम , अपने काम की वजह  से बिकेंगे ,ऐसा अखबार निकालने -चलाने वालों को क्यों नहीं लगता ? उनको अपने अखबार  की गुणवत्ता से कहीं ज्यादा भरोसा बाज़ार की घरेलू सामग्री पर और लोगों को लालच देने , भरमाने पर भला क्यों रहता है ?  लगता है कहीं न कहीं  वो भी यह स्वीकार कर चुके हैं कि जो आम पाठकों  को चाहिए  वह सब  अब वो उन्हें उपलब्ध नहीं  करा पायेंगे । अखबार अब बिना किसी सहारे नहीं बिक पायेंगे , शायद । इसीलिए बीच का रास्ता अख्तियार करना पढ़ रहा है । लालच देकर ग्राहक पटाओ और सच्चाई ,सही- सही खबरें ना छाप कर  ,जन समस्याओं को न छाप कर उनको खुश रखो , उपकृत करो जिनसे पैकेज या विज्ञापन आदि मिलते हों । कुछ अखबारों ने तो बाकायदा ऐसे कुछ फ़ॉर्मेट तय कर लिये हैं कि चाहे जो हो जाये पर वो किस -किस के खिलाफ़ नहीं जायेंगे  या फ़िर किस-किस से समर्थन में कुछ नहीं लिखेंगे ।  इसके दिशा - निर्देश   " ऊपर " से होते हैं , जिसके लिए सड़कों पर गाली खाते हैं अखबारों के फ़ील्ड वर्कर , रिपोर्टर , मार्केटिंग  का  काम देखने वाले लोग । अंधी और दिशा हीन  दौड़   , सिर्फ़ और सिर्फ़ पैस कमाने की  होड़  में लगे  ये धन पिशाच से लोगों ने  कलंकित कर दिया है अखबार जगत को । अब भला इन्हें कोई कैसे यह समझा  सकता है कि   यार अपना उत्पाद ही ईमानदारी के साथ निकालें तो इन्हें किसी भी  दूसरे के उत्पाद का सहारा नहीं लेना पड़ेगा । लेकिन इनको तो कारपोरेट जगत में ऐनकेन प्रकारेण अपने आपको लेजाने  की सूझ रही है न । लोग क्या चाहते हैं ? इसकी चिंता भला ये क्यों करने लगे ?  कुछ भी छाप दो , अखबार बिकेगा  शैम्पू  ,तेल टेबल-कुर्सी , सी डी , डी वी डी ,  टी वी , घड़ी और पंखे  के सहारे । गया वो जमाना जब अखबार निकालना और उसे चलाना एक '" मिशन " हुआ करता  था ।  आज जमाना हुआ है " कमीशन " का । अखबार को धंधा बना , पैसे के लिए  अपने हांथों में फ़ूलों का गुलदस्ता लिए इसके - उसके दरवाजे घूमने वाले अब शायद ही जल्दी सुधर पायेंगे । जब तक कोई बड़ी घटना नहीं होगी ,ये शायद ही चेत पायेंगे ।Technorati tags:

2 टिप्‍पणियां:

  1. vidhan sabha chunav 2008 me hamne PRESS ka vyavsaik chera dekha. 4/5 dashak se hum sarvjanik jeevan me hai parantu aise sthiti ki kalpna bhi nahi ki thi.
    Maalik ko power plant lagana hai- uska dhan rakho. G.M.,Sampadak,Beat wale patrakar aur had to tab ho gayi jab Page Maker bhi SANTUSHT hue bina LIFT DENE ko ready nahi.
    Apne walon se pata chala ki us samay 30/40 KHOKHE to kewal KALAMNAVIS SAMPRADAY par hi kharch hue. Baki aapne jo likha hai usse kafi jayada neeche ye chale gaye hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Narayan Narayan.
    Mai duniya ka pahla patrakar hu. Pichle 10/15 saalon me mere vanshaj kis had tak aa gaye hai. Dalali, Blackmailing, supply, aur na jane kya-kya. 100's of news papers & magazines are comming up and most of them are seen beging for govt. ads.
    Janta ko inse ab umeed nahi karni chaheye. Kewal dukandari reh gayi hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...