मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

जुलाई 15, 2010

माँ की गोद में ही 48 साल ली गहरी नींद

भारत माता का एक सच्चा सपूत   माँ की गोद में ही 48 साल की गहन नींद में सोया रहा  । 48 वर्षों बाद इस   वीर सपूत  को इह लोक से ससम्मान विदाई दी गई ,पैतृक गांव की गोद में सुला कर ।
भारत चीन युद्ध के दौरान करीब 48 साल पहले चीन सीमा पर   शहीद हुये सेना के जवान   वीर करम चन्द कटोच के अन्तिम संस्कार हिमाचल प्रदेश के कांगडा जिला के पालमपुर के पास उसके पैतृक गांव अगोजर में किया आज 15 जुलाई 2010 की सुबह पूरे सैनिक सम्मान कि साथ किया गया । भारत माता के इस   वीर सपूत  को हमारा कोटि-कोटि नमन। एक जुलाई, 2010 को वलोंग के समीप भारी भूस्खलन होने पर बीआरटीएफ के जवानों द्वारा जब सड़क पर से मलवा हटाया जा रहा था, उस समय अचानक शहीद के पहचान स्वरूप सेना की डिस्क तथा चांदी की अंगूठी मिली, जिसकी जांच करने पर 4-डोगरा रेजिमेंट के जवान   वीर करम चन्द कटोच के रूप में पहचान की गई। इसके उपरान्त इस क्षेत्र में तैनात सिक्ख रेजिमेंट के जबानों द्वारा भूस्खलन का जोखिम उठाते हुए 5 जुलाई, 2010 को शहीद करम चन्द के शव को बाहर निकाला गया,यह शव पिछ्ले 48 वर्षों से वहां बर्फ़ में दबा हुआ था । 48 वर्ष उपरान्त  शहीद  करम चन्द के शव उनके पैतृक गांव अगोजर लाया गया जहां पूरे सैनिक सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। शहीद   वीर करम चन्द  कटोच एक बहादुर सिपाही थे , जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए प्रतिकूल मौसम के वावजूद चीन की सेना के साथ लोहा लेते हुए देश की रक्षा के लिये अपने प्राण न्यौछावर किये थे।   शहीद    वीर करम चन्द की शहादत को कृतज्ञ राष्ट्र कभी नहीं भुला सकेगा। हजारों की संख्या में लोगों ने, विशेषकर महिलाओं ने समाज की रूढ़िवादी परम्परा को दरकिनार करके शहीद  वीर करम चन्द कटोच को आज उनके पैतृक गांव अगोजर के समीप मच्छयाल खड्ड के किनारे अश्रुपूर्ण विदाई दी गई। शहीद का अंतिम संस्कार उनके भतीजे जसवन्त सिंह कटोच द्वारा चिता को मुखाग्नि देकर किया गया । आईये हम सब भी ,  अमर   शहीद  -  भारत माता के इस वीर सपूत को अपने श्रद्धासुमन अर्पित करें।

5 टिप्‍पणियां:

  1. भारत माता के सच्चे सपूत ,वीर को शत-शत प्रणाम । नमन ।
    जय हिन्द । जय भारत । वन्दे मातरम ।
    -अनुग्रह

    उत्तर देंहटाएं
  2. वीर जवानों का बलिदान याद करेगा हिन्दुस्तान । अमर शहीद करमचन्द
    को शत-शत नमन । जय हिन्द ।
    अभिलाषा

    उत्तर देंहटाएं
  3. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...