मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

दिसंबर 14, 2010

वरदान माँगूँगा नहीं

शिव मंगल सिंह ' सुमन '

यह हार एक विराम है
जीवन महासंग्राम है
तिल-तिल मिटूँगा पर दया की भीख मैं लूँगा नहीं।
वरदान माँगूँगा नहीं।।

स्‍मृति सुखद प्रहरों के लिए
अपने खंडहरों के लिए
यह जान लो मैं विश्‍व की संपत्ति चाहूँगा नहीं।
वरदान माँगूँगा नहीं।।

क्‍या हार में क्‍या जीत में
किंचित नहीं भयभीत मैं
संधर्ष पथ पर जो मिले यह भी सही वह भी सही।
वरदान माँगूँगा नहीं।।

लघुता न अब मेरी छुओ
तुम हो महान बने रहो
अपने हृदय की वेदना मैं व्‍यर्थ त्‍यागूँगा नहीं।
वरदान माँगूँगा नहीं।।

चाहे हृदय को ताप दो
चाहे मुझे अभिशाप दो
कुछ भी करो कर्तव्‍य पथ से किंतु भागूँगा नहीं।
वरदान माँगूँगा नहीं।।
                                                                                            - शिव मंगल सिंह ' सुमन '

7 टिप्‍पणियां:

  1. Your blog is great
    If you like, come back and visit mine: http://b2322858.blogspot.com/

    Thank you!!Wang Han Pin(王翰彬)
    From Taichung,Taiwan(台灣)

    उत्तर देंहटाएं
  2. फ़ना जब भी हमारे राज़ होंगे,
    तो जीने के अलग अन्दाज़ होंगे ।

    खफ़ा उनसे मैं होना चाहता हूँ,
    मग़र डर है कि वो नाराज़ होंगे ।

    ज़रा पन्नों को हौले से पलटना,
    वहाँ नाज़ुक- से कुछ अल्फ़ाज़ होंगे ।

    बहुत महफ़ूज़ है पिंजड़े में चिड़िया,
    गगन में तो हज़ारों बाज़ होंगे ।

    अभी तो हैं तमंचे उनके हाथों,
    वो दिन कब आएगा जब साज़ होंगे ।

    ’शरद’ के राज़ ही जो खोलता हो ,
    तो फ़िर उसके वो क्यों हमराज़ होंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ भी करो किन्तु कर्तव्य से भागूंगा नहीं '
    वरदान मागूंगा नहीं ।
    सुन्दर अभिव्यक्ति , बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भावो से भरी अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...