मेरा अपना संबल

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस

रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा   :  मो. नं. 9717630982 पर करें एसएमएस
रेलवे की एस.एम.एस. शिकायत सुविधा : मो. नं. 9717630982 पर करें एस.एम.एस. -- -- -- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ट्रेन में आने वाली दिक्कतों संबंधी यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने एसएमएस शिकायत सुविधा शुरू की थी। इसके जरिए कोई भी यात्री इस मोबाइल नंबर 9717630982 पर एसएमएस भेजकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। नंबर के साथ लगे सर्वर से शिकायत कंट्रोल के जरिए संबंधित डिवीजन के अधिकारी के पास पहुंच जाती है। जिस कारण चंद ही मिनटों पर शिकायत पर कार्रवाई भी शुरू हो जाती है।

दिसंबर 26, 2010

कर्ज में डूबे पिता ने तीन बच्चों सहित खुद को लगाई आग

 यह घटना घटी , अखबारों में छपी , लोगों ने पढ़ा और भूल गए । शासन - प्रशासन मौन ! क्योंकि उसकी नजर में यह सामान्य या फ़िर रोज घटने वाली घटना है और शायद शासन - प्रशासन की प्राथमिकता सूची में यह विषय नहीं है । सच ही है 'मर्म' से नहीं 'माल' से चल रहा है छत्तीसगढ़ का शासन ।
कोई माने ना माने पर हकीकत यही है कि प्रदेश में अमीर और गरीब के बीच की खाई बढ़ती जा रही है , गरीबों की जमीनें जबरिया खरीदी जा रही है ,कर्ज देने वालों का जंजाल बुरी कदर फ़ैला हुआ है , इस पर किसी का भी नियंत्रण नहीं है ,रोज मरते हैं कर्ज में लोग लेकिन शासन की बला से । क्योंकि कर्जदाताओं के लम्बें हाँथ नेताओं के गिरेबाँ तक जो हैं ।
पढ़िए हाल की ही एक घटना ---
रायपुर । कर्ज में डूबे राजधानी रायपुर के एक राजमिस्त्री ने शुक्रवार 24दिसम्बर की रात को अपने तीन बच्चों सहित खुद भी आग लगा ली। चारों को अम्बेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ दो बच्चों ने दम तोड़ दिया , एक बच्ची सहित बाप  जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। जिनकी हालत बेहद चिंता जनक बताई जाती है ।
बजरंग चौक आजादनगर रावांभाठा निवासी गब्बर (37) राजमिस्त्री है। रात करीब साढ़े आठ बजे उसने मिट्टी तेल डालकर दस वर्षीय बेटी श्वेता, आठ वर्षीय प्रिया और दो वर्षीय मयंक को आग लगा दी। इसके बाद खुद भी मिट्टी तेल डालकर आग लगा ली। चीखें सुनकर पत्नी सुनीता पड़ोसियों के साथ घर पहुंची। पड़ोसियों ने आग बुझाई और उन्हें अस्पताल पहुंचाया। 
सुनीता का कहना है कि 11 दिन पहले उसकी डिलीवरी के लिए गजानन ने कर्ज लिया था। अभी वह 15 हजार रूपए के कर्ज में डूबा हुआ था। इससे वह चिड़चिड़ा हो गया। शुक्रवार रात को काम से लौटा तो सुनीता से उसका विवाद हो गया। उसने सुनीता को बच्चों को लेकर मायके जाने के लिए कहा। सुनीता 11 दिन के बच्चे को लेकर घर से चली गई। इसके बाद गजानन ने तीन बच्चों और खुद को आग लगा ली। 
गुस्से में उठाया कदम
टीआई खमतराई विरेंद्र चतुर्वेदी ने बताया कि गजानन शराब का आदी था। शुक्रवार रात भी वह नशे में धुत घर पहुंचा। उसका पत्नी के साथ विवाद हुआ। वह सबसे छोटे बच्चे को साथ लेकर घर से निकल गई। इसके बाद गुस्से में गजानन ने तीन बच्चों को जलाया और खुद को भी आग लगा ली। 
(_कुल मिला कर बात यहाँ खत्म करने की चीर परिचित शैली की शराबी ने नशे में ऐसा किया , सारा दोष शराब और शराबी होने का , हालात को मारो गोली और बंद करो फ़ाईल , पता करो किससे कर्ज लिया था , बुलाओ उसे थाने , कुछ भेंट-पूजा ले लो और छोड़ दो उसे ,उसका भी धंधा है -अपना भी  । शासन को विधानसभा में जवाब देते बने ऐसी एक शानदार रिपोर्ट तैयार करवा कर रखो । बस हो गया काम । यही तो है शायद संवेदनशील प्रशासन  !!! )

14 टिप्‍पणियां:

  1. दर्दनाक हादसा.
    लेकिन कारण कहीं और.

    उत्तर देंहटाएं
  2. There is a very serious social problem behind such incedents. The private LOAN MAFIA has suddenly become very strong in the past 6-7 years. People from lower, lower-middle and middle class have become their prey. The state Government has its own priorities and such issues does not seem to bother it.
    We definately deserve a sensitive, responsive & responsible government in this state. The irony is that BJP had been voted for being THE PARTY WITH A DIFFERENCE and here we see a TOTALLY INDEFFERENT BJP.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी वर्ल्ड बैंक की ताज़ी रिपोर्ट है कि अपने देश में गरीबों सी संख्या में काफी वृद्धि हुई है.. लेकिन अपने राजनेता छद्म विकास को दिखने प्रचरित प्रसारित करने में लगे हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब गरीब आदमी क्या भी तो ओर क्या करे, हमारे प्रसाशन मे बेठे अफ़सर ओर यह नेता अपनी पेट पुजा के सिवा अपने आने वाली सात पिढियो का फ़िक्र करती हे, अपने ऎशो आराम का ख्याल रखती हे , किस के बल पर इन बेचारे मजदुरो ओर बेबस लोगो का हक मार कर, यानि इन सब आत्महत्या के दोषी यही लोग हे जिन्हे हम जीता कर वोट दे कर अपना प्रधान चुनते हे, यही लोग जबाब दे...बहुत ही दुखद घटना हे यह.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओह ....बेहद दर्दनाक घटना ....

    गरीबी और तंगहाली मानसिक कलह की वजह बनती है .....
    कुछ हद तक शराब और अनपढ़ता भी ....
    सच सुनकर खौफ सा आता है ...उन मासूमों ने कैसे सही होगी वह आंच ....?
    उस बाप का दिल दिल था ya patthar ....pta nahin .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. गरीबी और अमीरी की दिनो दिन बढते जा रही है।
    शराब ही सरकार बिकवा रही है। जब दुकान में बिकेगी तो लोग खरीदेगे ही और पीकर मरेंगे भी।

    शराब के उन्माद के दौरान घटी यह दर्दनाक दुर्घट्ना है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपना असली नाम और चेहरा छिपाकर आप किसका विकास जानना चाह रहें हैं श्रीमान ? नेताओं का ? अधिकारियों का ? या बदहाल जनता का ? कुछ भी छिपा नहीं है ना ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही दर्दनाक घटना है यह ...।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मार्मिक चित्रण |बधाई मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार |क्रिसमस
    की शुभ कामनाओं के साथ
    आशा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणी के लिए कोटिशः धन्यवाद ।

फ़िल्म दिल्ली 6 का गाना 'सास गारी देवे' - ओरिजनल गाना यहाँ सुनिए…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...